Homeउत्तराखंडगंगा की व्यथा ,मानव की खता" का मंचन किया गया।

गंगा की व्यथा ,मानव की खता” का मंचन किया गया।

संस्कार भारती महानगर इकाई देहरादून द्वारा “भरत मुनि स्मृति दिवस” के उपलक्ष्य में आयोजित
कार्यक्रम में नाटक अनुराग वर्मा के संयोजन में ” गंगा की व्यथा ,मानव की खता” का मंचन किया गया।
कार्यक्रम की शुरुआत श्रीमती सविता कपूर,, भारती पाण्डे, निशा अग्रवाल, पूनम लूना वअनुराग वर्मा ने दीप प्रज्जवलित कर किया। सुभाषिनी डिमरी, भारती पाण्डे ने ध्येय गीत प्रस्तुत किया।वीनू थापा ने”जाऊं तोरे चरण कमल बलिहारी”।
भारती पाण्डे ने भरत मुनि के नाट्य शास्त्र के विषय में विस्तार से जानकारी दी। कहा-37अध्यायों में भरत मुनि ने रंगमंच,अभिनेता,अभिनय, नृत्य गीत, वाद्य आदि,दर्शक, दशरूपक, और रस निष्पत्ति से सम्बंधित सभी तथ्यों का विवेचन किया।
सविता कपूर ने कहा-नाटक मनोरंजन ही नहीं बल्कि उसमें जनजागरण के प्रति आह्वान, प्रेरणा भी निहित रहती है।
संचालन निशा अग्रवाल ने किया।
नाटक के पात्र*
रश्मि मिश्रा,मंतव्य भारद्वाज, मीनू आता राहुल कुमार वरुण नौटियाल ,लक्ष्य जैन ,राज वर्मा ,आशीष वर्मा अंशिका वर्मा
कार्यक्रम में प्रवीण शर्मा,शारदा कोहली, विमला गौड़, निशा अग्रवाल, भारती पाण्डे, सविता कपूर, अनुराग वर्मा, पूनम लूना सहित संस्कार भारती महानगर इकाई देहरादून के सदस्य शामिल रहे।
नाटक का सार
पर्यावरण के सन्दर्भ में चिंता व्यक्त करते हुए आज की परिस्थितियों में हो रहे निरंतर घटनाओं, दुर्घटनाओं की श्रृंखला से तप्त प्रकृति व समूचे विश्व में मचे हाहाकार के लिए मानव को प्रकृति से खिलवाड़ करने के परिणाम से आगाह करती है।
निदेशक आशीष वर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments