21.2 C
Dehradun
Wednesday, June 19, 2024
Homeउत्तराखंडउत्तराखण्ड बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष डा0 गीता खन्ना ने हरवर्टपुर...

उत्तराखण्ड बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष डा0 गीता खन्ना ने हरवर्टपुर क्षेत्र के दून वेली इण्टरनेशनल स्कूल का किया औचक निरीक्षण

उत्तराखण्ड बाल अधिकार संरक्षण आयोग की मा0 अध्यक्ष डा0 गीता खन्ना द्वारा जनपद देहरादून के हरवर्टपुर क्षेत्र के दून वेली इण्टरनेशनल स्कूल का औचक निरीक्षण किया गया।
निरीक्षण के दौरान विद्यालय में प्रबन्धक एवं प्रधानाचार्य अनुपस्थित मिले तथा वहां प्रबन्धक कक्ष में उपस्थित फातिमा, जिनके द्वारा स्वयं को काॅरडिनेटर बताया गया, जिसके उपरान्त भी उनके द्वारा उत्तराखण्ड बाल अधिकार संरक्षण आयोग की टीम को औचक निरीक्षण में सहयोग प्रदान नही किया गया।
विद्यालय में बच्चों के बस्तों का वजन मानकों से कहीं अधिक था। कक्षा 8 बच्चों के बैग का वजन 10-12 किलो आंका गया। मा0 अध्यक्षा द्वारा बच्चों से बातचीत की गई। बच्चों को बाल अधिकार संरक्षण आयोग के बारे में जानकारी नही थी। बच्चों द्वारा बताया गया कि उनकी प्रधानाचार्य कल्पना गुप्ता पिछले एक माह से स्कूल छोडकर जा चुकी है। बातचीत के दौरान बच्चो द्वारा यह भी बताया गया कि समय-समय पर शिक्षक परिवर्तित किए जाते हैं और शिक्षकों द्वारा मारपीट भी की जाती है| स्कूल स्टाफ से बात करने पर उनके द्वारा बताया गया कि प्रधानाचार्य का स्वास्थ्य ठीक न होने के कारण व चिकित्सीय अवकाश पर है। वर्तमान समय में प्रधानाचार्य के दायित्वों का वहन किसी के द्वारा नही किया जा रहा है। विद्यालय में कार्यरत शिक्षकों को न्यून वेतन में रखा गया है।
आयोग के मा0 सदस्य श्री दीपक गुलाटी जी द्वारा बच्चों से गुड टच, बेड टच, पोक्सो के बारे में बातचीत की गई, जिसपर बच्चों को कोई जानकारी नही थी तथा बच्चों को बाल अधिकार सरंक्षण आयोग के बारे में भी कुछ पता नही था, जिस पर मा0 सदस्य द्वारा बच्चों को उनके अधिकारों से अवगत कराया गया।
पुस्तकालय के निरीक्षण करने पर वहां कक्षा 12 के बच्चे उपस्थित थे, जिन पर वार्ता करने पर अवगत कराया गया कि आज हृयूमैनिटी की कक्षा है, किन्तु शिक्षक नही होने के कारण उन्हें पुस्तकालय में नोट्स से अध्ययन करना पड रहा है।

विद्यालय में कुल 550 विद्यार्थियों में कुल 28 शिक्षक- शिक्षिकायें है। विद्यालय द्वारा प्रत्येक वर्ष फीस में वृद्धि की जा रही है। विद्यालय के शौलाचय अत्यंत दुषित व गन्दे पाये गये, पीने के पानी की व्यवस्था भी सुचारू नही थी। विद्यालय में बच्चों की जागरूकता हेतु नोटिस बोर्ड व सूचना पट तथा शिकायत पेटी भी नही लगाये गये थे। विद्यालय में पी0टी0ए0 का गठन भी नही किया गया है तथा कोई रजिस्टर भी रक्षित नही है। विद्यालय को पी0टी0ए0 के गठन हेतु कोई जानकारी नही थी।
निरीक्षण में मा0 सदस्य श्री दीपक गुलाटी, शिक्षा विभाग से श्रीमती विनिता कठैत नेगी, खण्ड शिक्षा अधिकारी, विकासनगर, पुलिस विभाग से श्री भुवन चंद, एस0एस0आई0, विकासनगर, इंसपेक्टर मुकेश त्यागी, श्री एस0के0सिंह, अनुसचिव व श्रीमती ममता रौथाण, विधि अधिकारी, श्री विशाल चाचरा, वैयक्तिक सहायक उत्तराखण्ड बाल अधिकार संरक्षण आयोग उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments