11 C
Dehradun
Tuesday, February 20, 2024

spot_img
Homeउत्तराखंडकारबारी का आन्दोलन :एक आन्दोलन जिसने क्षेत्र का नक्शा ही बदल डाला:...

कारबारी का आन्दोलन :एक आन्दोलन जिसने क्षेत्र का नक्शा ही बदल डाला: अनन्त आकाश



बात 1982 की है जब डीएवी महाविद्यालय में हम लोग एस एफ आई संगठन के तहत छात्रों को शिक्षा की बुनियादी समस्याओं को लेकर संगठित कर रहे थे ।संगठन के इर्दगिर्द छात्र जुड़ने लग गये थे ।एस एफ आई की स्वतंत्र गतिविधियों में इज़ाफ़ा हो रहा था ।उन्हीं दिनों देहरादून से लगभग 12 किलोमीटर दूर कारबारी गांव में गोरखा कारबारी के रास्ते खुलवाने की मांग जोर पकड़ रहा था तथा आन्दोलन की सुगबुगाहट शुरू हो गई थी जो 21अप्रैल 1982 तक आते-आते उग्र रूप धारण कर चुका था । इसी दिन गोरखा कारबारी के लोगों ने राजा डुमरांव एस्टेट के फार्म हाऊस से गुज़र रहे रास्ते का गेट तोड़ डाला।थोडी़ देर में डुमरांव एस्टेट का राजा व फार्म हाऊस का मालिक अपने दलबल के साथ देहरादून से घटनास्थल पर पहुंचा व लोगों को धमकाने लग गया ।प्रशासन ने गांव को पुलिस , पी ए सी की छावनी बना डाली किन्तु किसान सभा के नेतृत्व में हमारे बहादुर साथी डटे रहे तथा पुलिस प्रशासन के भारी आंतक के बावजूद भी झुके नहीं ।तब पार्टी देहरादून के सचिव कामरेड विजय रावत थे ,तथा एस एफ आई देहरादून के अध्यक्ष दिनेश ढौण्डियाल तथा सचिव वेदिकावेद थे ।कारबारी आन्दोलन शुरू होते ही सभी साथी का निरन्तर आन्दोलन स्थल पर आना जाने का सिलसिला शुरू हो चुका था ।मेरा भी लगातार आना जाना शुरू हो चुका था ,कई दिनों तक वहीं रूक जाया करते थे ,लोग बड़ा ही आदर सत्कार किया करते थे,कामरेड राज शर्मा तथा नौजवान सभा के सचिव सुभाष चटर्जी गांवों वालों की हरसम्भव सहायता के लिये तत्पर रहते थे ।आन्दोलकारियों की हिम्मत बना कर रखते थे ।आन्दोलन के दौरान इस क्षेत्र नयागांव इण्टर में छात्रों के मध्य एस एफ आई के गठन ने कारबारी आन्दोलन को मजबूती प्रदान की । उस दौर में अधोईवाला ,नथुवावाला ,हरवंश वाला में क्रमश का सुरेंद्र सिंह सजवाण ,कामरेड भगवान सिंह पुण्डीर तथा कामरेड पूरनचंद इन ग्राम पंचायतों के लोकप्रिय प्रधान थे तथा देहरादून में बल्ब तथा ट्रॉन्सपोर्ट आदि क्षेत्रों में सी आई टी यू का मजदूरों के मध्य मजबूत आन्दोलन के चलते कारबारी के किसान आन्दोलन को बल मिल रहा था ।उधर कारबारी में हमारे बहादुर साथी कामरेड शिवप्रसाद देवली कारबारी उपप्रधान , राजेन्द्र पुरोहित , सरोजबाला ठाकुर अमर बहादुर शाही ,नारायण ठाकुर ,हरिप्रसाद शर्मा ,सुधा देवली आदि मौके पर मोर्चे संभाले हुऐ थे ।वहीं देहरादून जिलामुख्यालय पर आन्दोलन के समर्थन तथा दमन के विरोध में धरनों व प्रदर्शन का दौर चल रहा था ।अन्ततः प्रशासन को झुकना पड़ा ।वर्षों तक कारबारी के बहादुर साथियों को जिला अदालत में अनेक संगीन धाराओं के तहत मुकदमों का सामना करना पडा़ किन्तु उनके इरादे मजबूत होते गये ।1982से पूर्व कारबारी ही नहीं बल्कि सम्पूर्ण क्षेत्र न केवल पिछड़ा था बल्कि देहरादून से लगभग कटा हुआ था ।इन दर्जनों गांवों में न सड़क न जोड़ने वाले ही पुल ही थे ।बरसात के दिनों में देहरादून से आवागमन अत्यधिक कठिन व जानलेवा था ।हर साल नदी ,नालों में बहने की दर्जनों घटनाएं होती थी ।उस क्षेत्र में साईकिल या नीजि वाहन से जा पाना ही सम्भव हो पाता था ।कारबारी आन्दोलन के बाद क्षेत्र में आसनपुल ,सड़कों ,बाढ सुरक्षा ,जंगली जानवरों से रक्षा,शिक्षण संस्थानों ,पेयजल ,विधुतीकरण की मांगों के लिये अनवरत संघर्ष कम्युनिस्ट पार्टी आफ इण्डिया (मार्क्सवादी ) व किसान सभा के नेतृत्व में हुऐ इन आन्दोलनों ने क्षेत्र के विकास का रास्ता खोलकर रख दिया व कायापलट दी ।जिसमें कारबारी की जनता का अभूतपूर्व सहयोग मिलता रहा । आज क्षेत्र के चहुंमुखी विकास के लिये कारबारी की ऐतिहासिक आन्दोलन जिसने क्षेत्र का कायाकल्प करके रख दिया है । आज भी जनमुद्दों पर बडे़ ही सिद्दत के साथ संघर्ष कर रहे हैं ।आज भी कारबारी आन्दोलन के नेतृत्वकारी साथी पार्टी व किसान सभा तथा साक्षरता आन्दोलन में जिले व पूरे प्रदेश महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहे हैं तथा प्रगतिशील समाज के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं ।हमारे साथियों का देहरादून के जिला पंचायत उपाध्यक्ष व अध्यक्ष पद पर शिवपप्रसाद देवली तथा सहसपुर क्षेत्र पंचायत में राजेन्द्र पुरोहित व उसी आन्दोलन में एस एफ आई से जुडी़ साथी माला गुरूग पुनः कारबारी का प्रधान तथा अन्य साथियों का महत्वपूर्ण पदों पर आसीन होना निरन्तर संघषों का ही परिणाम है ,जो कि हमारे लिऐ गर्व का बिषय है ।गत कुछ सालों से आबादी का परिदृश्य में बदलाव के परिणामस्वरूप गांवों का शहरीकरण हो रहा है , भूमाफियाओं तथा बिल्डर्स कम्युनिटी द्वारा विकास की आड में अनाप शनाप तथा अनियोजित निर्माण कर जंगलों व डैरेन्ज सिस्टम तथा सदियों से संजोयी हमारी विरासत को नुकसान पहुंचां रहे है ,जिसकी रक्षा करना हम सब का कर्तव्य है ।जहाँ 1982 में कारबारी आन्दोलन क्षेत्र के विकास का आन्दोलन का प्रतीक बना ,वहीं आज क्षेत्र को माफियातन्त्र से बचाने तथा आवाज बुलंद करने की आवश्यकता है !
(इस आंदोलन के प्रेणता में रहे दिवंगत साथी पूरनचंद ,साथी गोंसाई सिंह जगवाण ,साथी भगवान सिंह पुण्डीर ,साथी राज शर्मा ,साथी सुभाष चटर्जी ,साथी वीरेंद्र भण्डारी ,मास्टर रतनसिंह रौतेला,साथी भगवती नैनवाल, महेश लाल काका , घनश्याम ठाकुर ,शहीद पोलूराम, सरू देवी, शकुंतला देवी आदि की क्षेत्र की जनता सदैव ऋणी रहेगीं ,जिनके सहयोग के बिना क्षेत्र का विकास सम्भव नहीं था )



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Recent Comments