23.4 C
Dehradun
Sunday, September 25, 2022
Home कोविड-19 बचपन पर भारी कोरोना! वर्ल्ड बैंक नाराज हो कहा- होटल, बार, मॉल-बाजार...

बचपन पर भारी कोरोना! वर्ल्ड बैंक नाराज हो कहा- होटल, बार, मॉल-बाजार खुले लेकिन सरकारों ने बिना सोचे-समझे स्कूल बंद कर दिए

कोरोना महामारी के कारण स्कूल बंद रहने की वजह से पिछले 2 साल के दौरान बच्चों के सीखने की क्षमता पर असर पड़ा है. वर्ल्ड बैंक का कहना है कि संक्रमण रोकने के नाम पर स्कूलों को बंद करना बेतुका फैसला है. जब रेस्त्रां, होटल, बार और शॉपिंग मॉल्स खुले हुए हैं, तो स्कूल बंद करने का कोई आधार नहीं है. वर्ल्ड बैंक के शिक्षा निदेशक जेमी सावेद्रा का कहना है, स्कूल खोलने से संक्रमण में तेजी आने का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है. कई देशों में स्कूल बंद होने के बावजदू कोरोना संक्रमण की कई लहरें आई है. उनका कहना है कि स्कूल खोलने के लिए सभी बच्चों को टीका लगने का तर्क भी गलत और अव्यवहारिक है. संक्रमण के नई लहर के दौरान भी आखिरी उपाय के तौर पर ऐसा कदम उठाया जाना चाहिए. उनकी टीम कोरोना के शिक्षा पर असर पर अध्ययन कर रही है.

वर्ल्ड बैंक की ही एक रिपोर्ट के अनुसार स्कूल खोले रखने से बच्चों में संक्रमण का जोखिम बहुत कम होता है, लेकिन इसकी तुलना में बच्चों की शिक्षा को लेकर होने वाला नुकसान अधिक होता है. कोरोना काल की शुरुआत के दौरान दुनिया भर में प्रतिबंधों का दौर शुरू हुआ. ये परिस्थितिजन्य अधिक था. स्कूलों को बंद करना इसमें शामिल था. अब महामारी के दो साल बाद दुनिया भर में सरकारें ज्यादा परिपक्व फैसले कर सकती हैं. वर्ल्ड बैंक के अध्ययन के अनुसार पिछले 2 साल के दौरान भारत में स्कूल बंद होने से 10 साल तक के 70% बच्चों की सीखने की क्षमता पर असर पड़ा हैं. इसे लर्निंग पावर्टी कहा जाता है. इसमें 10 साल तक के बच्चों को सामान्य वाक्यों को भी पढ़ने और लिखने में मुश्किलें आती हैं.

यूनीसेफ के दिसंबर, 2021 में जारी रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में लगभग 100 से अधिक देशों में स्कूल फिर से खुल गए हैं. अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा और जापान मेंं हुए शोध के अनुसार स्कूल खोलने से संक्रमण फैलाव पर बहुत कम असर पड़ता है. मैक्सिको, फिलीपींस जैसे कुछ ही देश हैं जिन्होंने ओमिक्रॉन संक्रमण की लहर के दौरान स्कूलों को बंद किया है. कोरोना काल के दौरान स्कूल बंद होने से दुनिया भर में लगभग 30 करोड़ बच्चे प्रभावित हुए थे. स्कूल बंद हाेने के क्रम से बच्चों की पढ़ाई पर बहुत अधिक असर पड़ता है. वर्ल्ड बैंक के एक अनुमान के अनुसार भारत की अर्थव्यवस्था को इससे आने वाले समय में लगभग 30 लाख करोड़ रुपए का घाटा होने की आशंका है. बच्चों की भविष्य की कमाई पर इसका विपरीत असर पड़ता हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी के जन्म दिवस पर उनके चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को नगला तराई में अपने निजी आवास पर पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी के जन्म दिवस पर उनके...

अंकिता के हत्यारों को सख्त सजा मिले

प्रदेश में बढ़ रहे अपराधिक गतिविधियों तथा अंकिता के हत्यारों को कड़ी सजा देने तथ अंकिता के परिवार के साथ न्याय करने की मांग...

मुख्यमंत्री के निर्देश पर ताबड़तोड़ कारवाई,नैनीताल में 5 रिज़ॉर्ट सील

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देशों पर उत्तराखंड में विभिन्न गेस्ट हाउस और रिज़ॉर्ट पर प्रशासन की ताबड़तोड़ कार्रवाई शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री...

अंकिता को न्याय की माँग को लेके रायपुर कॉलेज में छात्रों ने किया प्रदर्शन

राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय मालदेवता रायपुर के छात्र नेता शशांक सिंह का कहना है हम सभी अपनी बहन अंकिता भंडारी की हत्या के लिए न्याय...

Recent Comments