Homeउत्तराखंडसीबीएसई 12वीं बोर्ड परीक्षा स्थगित, दसवीं की परीक्षा रद्द

सीबीएसई 12वीं बोर्ड परीक्षा स्थगित, दसवीं की परीक्षा रद्द

भारत में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं टाल दी गई। वहीं, 10वीं बोर्ड की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया। परीक्षाओं को रद्द करने पर चल रही बहस के बीच बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिक्षा मंत्री के साथ बैठक की, जिसमें यह फैसला लिया गया है। बैठक में तय किया गया कि एक जून को बैठक में तय किया गया कि 12वीं की परीक्षा के लिए क्या फैसला होना चाहिए। सूत्रों के मुताबिक बैठक में दोनों ही परीक्षा रद्द करने की मांग उठी। इस पर प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले ही छात्र काफी नुकसान झेल चुके हैं। इसलिए 12वीं के संदर्भ में फैसला बाद में लिया जाएगा। फिलहाल उसे टाला जा रहा है।

बढ़ते कोविड के मामलों के बीच केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षाओं को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज उच्चस्तरीय बैठक की। पीएम 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को स्थगित करने और ऑनलाइन माध्यम से परीक्षा समेत अन्य विकल्पों पर विचार करने की उठ रही मांगों को लेकर की गई इस मीटिंग में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, केंद्रीय शिक्षा सचिव और अन्य शीर्ष पदाधिकारी शामिल हुए।
बैठक में तय किया गया है कि दसवीं की परीक्षा अब नहीं होगी। घरेलू प्रदर्शन के आधार पर ही छात्रों को अंक दिए जाएंगे। 10वीं के छात्रों को आंतरिक मूल्यांकन कर नंबर दिए जाएंगे। यदि इससे छात्र असंतुष्ट हैं, तो वे जब भी परीक्षा होगी, उसमें बैठ सकते हैं। वहीं, 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं को टाल दिया गया है। जून माह में परीक्षा को लेकर फैसला हो सकता है।
बता दें कि 4 मई, 2021 को सीबीएसई कक्षा 10 और 12 की परीक्षाएं शुरू होने का समय तय किया गया था। वहीं, बाकी कक्षाओं की परीक्षाएं ऑफलाइन-लिखित मोड में होने थी। सीबीएसई ने इसकी घोषणा फरवरी में की थी, जब देश में कोविड के संक्रमण के कुल मामले 15,000 से भी कम आ रहे थे। अब देश में कोरोना के मामले रोज डेढ़ लाख से ज्यादा आ रहे हैं।
बता दें कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित कई नेताओं ने कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते खतरों के मद्देनजर सीबीएसई परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की थी। कोविड के बढ़ते मामलों के बीच अभिभावकों को भी संक्रमण का डर है। राहुल गांधी ने कहा था कि सरकार इस फैसले से प्रभावित होने वाले सभी लोगों से बातचीत करके यह फैसला ले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments